call or whatsapp for astrology,vastu services - 9899002983

क्यों बने थे हनुमानजी पंचमुखी - panchmukhi hanumanji story in hindi

क्यों बने थे हनुमानजी पंचमुखी - panchmukhi hanumanji story in hindi





पंचमुखी हनुमानजी की पूजा बहुत जगह की जाती है और इसे बहुत पवित्र भी माना जाता है. हनुमानजी के पंचमुख धारण करने की कथा रामायण युद्ध से जुडी है. क्यों बनाया हनुमानजी ने पंचमुखी रूप जानते है इस कहानी में. 

panchmukhi hanumanji story 


रामायण युद्ध के दौरान रावण का  भाई अहिरावण ने माया के द्वारा सारी  सेना को नींद में सुला दिया और श्रीराम और लक्ष्मण का अपहरण करके उन्हें निद्रावस्था में पाताल लोक ले गया। जब सभी को होश आया तो विभीषण जी ने बताया के ये काम अहिरावण का हो सकता है. उन्होंने हनुमानजी को पाताल लोक जाने को कहा.



हनुमानजी जब पाताल लोक में अहिरावण के महल में पहुंचे तो राम जी  और लक्समन जी मूर्छित अवस्था में थे. अहिरावण के महल में चार दिशाओं में पांच दिए जल रहे थे, उन्हें एक साथ बुझाने पर ही अहिरावण का अंत संभव था. हनुमानजी को इस रहस्य का पता चल चूका था. 



अहिरावण राम जी की बलि की लेने जा रहा था, तभी  हनुमानजी ने एक रूप बनाया जिसमे वराह, नरसिंह, गरुड़, हयग्रीव और हनुमान मुख थे. और उन्होंने सभी दीपक को बुझाया और अहिरावण से युद्ध किया और उसका अंत किया. ये panchmukhi hanumanji रूप बहुत पवित्र और बलशाली माना जाता है


Comments

Popular posts from this blog

अचानक धन लाभ भी देता है कपूर और भी है फायदे

धन की बरकत के लिए हिजड़े से ले सिक्का

धन लाभ व् बाधा समाप्ति के लिए लौंग के उपाय

धन की परेशानी दूर करते है हनुमानजी के अचूक उपाय

from the web

loading...