call or whatsapp for astrology,vastu services - 9899002983

हिन्दू धर्म में एक गोत्र में शादी क्यूँ नहीं होती

हिन्दू धर्म में एक गोत्र में शादी क्यूँ नहीं होती


हिन्दू धर्म में अपनी ही गोत्र में शादी करना मना  किया गया है, ये एक धर्म का विषय है लेकिन क्या आप जानते है ये वैज्ञानिक रूप से भी उचित है आइये जानते है. 













कुछ बीमारियां पीछे से चली आ रही होती है जिसे जेनेटिक बीमारी बोलते है जो पीढ़ी दर पीढ़ी चलती है. इसे रोकने या इससे बचने का एक ही उपाय होता है के किसी दूसरे जींस वाले से विवाह होना. सही मायनो में इसे बोलेंगे  "सेपरेशन ऑफ़ जींस".




जब नज़दीकी रिश्ते में शादी होती है ऐसे में वही बीमारी आगे बढ़ती रहती है इनमे से कुछ बीमारियां  जैसे हिमोफिलिया, कलर ब्लाईंडनेस, और एल्बोनिज्म जेनेटिक है. 




हिन्दू धर्म पूरी तरह वैज्ञानिक है लेकिन कुछ बातों को धर्म से जोड़ा गया ताकि लोग इसे मान सके. जन्म कुंडली मिलाते समय भी गोत्र, नाभि और भृकुट गुण इसी से सम्बन्धित होते है. 

Comments

Popular posts from this blog

अचानक धन लाभ भी देता है कपूर और भी है फायदे

धन की बरकत के लिए हिजड़े से ले सिक्का

धन लाभ व् बाधा समाप्ति के लिए लौंग के उपाय

धन की परेशानी दूर करते है हनुमानजी के अचूक उपाय

from the web

loading...